Tuesday, June 30, 2015

Confessions of a Foodie - Paneer Tikka

As I confessed earlier, I absolutely love the tandoor. Though it's not something lower-middle class families like mine have in their homes, we do like craving about the tandoori stuff al lot. More importantly when one has been living in a cultural melting pot like the country's capital - Delhi. More than often, you will be amazed to find so many different cuisines available in Delhi that there are chances you might get confused which ones to bite into. I guess Delhi gets its character because of, maybe, being the country's capital, and because of the history and the mass migration and resettlement of people that has a great influence on where people live. You can find colonies predominantly settled down by people having one cultural influence. Like, the Old Delhi and Sadar Bazaar area are predominantly occupied by Muslim population. So, if you love Non-Vegetarian food, you  will be suggested to give a visit to some of the widely popular restaurants and outlets like Karim's near Jama Masjid. Then, we have Tilak Nagar, Subhash Nagar and Rajouri Garden, nearly adjoining areas where migrants from Punjab were resettled in the past. These areas too have quite a vibrant taste when it comes to food, tandoori and non vegetarian stuff too. Then we have a Bengali population concentrated in areas like Chittaranjan Park. You can try going there for exotic fish recipes, rosogolla, sandesh, etc. Areas like the trans-Yamuna Delhi has a major concentration of people from Uttar Pradesh and Bihar.

Back to reality. So, This time I decided to spend my sunday in a good way. How? Well, on saturday itself, I decided to cook. This time, it was something with cottage cheese (Paneer). While I have been cooking Vegetable and paneer rolls, a fastfood quite liked by students in places like Mukherjee Nagar (North Campus), Satya Niketan (South Campus), Munirka and the other places adjoining the Indian Institute of Technology (IIT), Delhi, because of the heavy concentration of coaching institutes for IIT-JEE, AIPMT and a lot of other competitive exams. Since I didn't want to repeat making paneer rolls, and no vegetable rolls, since it's hard (and expensive) to find vegetables during summers. I have tried making soya chaaps, but have miserably failed to create the kind of results that would get me praises for cooking it. So, paneer tikka it was. What I needed was a tandoor, and I knew I wouldn't get one. Cooking tikkas on the lpg stove was a bad idea as it would have lacked the taste. So, it was to be done on wood or coal fire. I used a small makeshift arrangement which my mother occasionally uses to prepare chapatis sometimes, and littis at other times.

Now I needed to find a recipe. I went over the internet, found the recipe, and tried to replicate. I missed adding a number of things that were suggested in the recipe. Hung curd was not available. So, I used the curd as it is. forgot to add ghee to the batter. And a number of other things as well. But I created the batter to coat the cubes of paneer, onions and capsicums. Now I needed the skewers to roast the stuff over the fire. I had none. I couldn't find iron or aluninium wire pieces too, and killing clothes hanger for this purpose didn't seem feasible. So, I made skewers out of some wood sticks. I knew the wood will burn if exposed to fire, but had no other choice. It took me around two hours in doing preparations, and another 2 hours to roast the half kilogram of paneer, another half a kilogram of capsicum and some onions.

Since I hadn't decided to put it up here, I didn't click the pictures while preparing the things o be roasted. Only while I started roasting these things that I decided to take the pictures, so, I will be sharing only these pictures. And, yes, the recipe too.

Paneer Tikka

Paneer Tikka

Ingredients (for 4 persons)

Ofcourse Paneer (Cottage Cheese) - 500 grams
Capsicum (Green) - 3-4 medium (approx 300-400 grams)
Onions - 250 grams
Tomatoes, 250 grams (if you want to have tomatoes too)

For Batter

Curd - 400-500 grams (preferably hung in a muslin cloth to drain out the water)
Spices -
    Turmeric Powder - 14 teaspoon.
    Coriander Powder - 12 teaspoon.
    Chilli Powder - As per taste.
    Garam Masala - 16 teaspoon.
    Salt - To Taste.
    Carom Seeds (Ajwain) roasted and ground - 12 teaspoon.
    Garlic cloves - 3 medium.
    Ginger - 1 inch piece, cut into small pieces.
Ghee (Clarified Butter) - 1 table spoon

For Chutney

Curd - 100 grams
Garlic cloves - 2 smalll to medium
Green chillies - 2-3 (or as per taste)
Mint leaves - Approx 4-5 stems
Salt - To taste

For Serving, Onions, finely cut in long pieces, lemons, lots of them, deseeded and chat masala, to add the tasty tinge.
Skewers for roasting (Fingers are not long enough :P).

Preparation - Chutney

Mix the curd, garlic cloves, mint leaves, green chillies and salt in a food processor. Your chutney is ready.

Preparation - Batter

First, in a bowl, take the hung curd and mix it well. Add the spices, turmeric powder, coriander powder, chilli powder, garam masala, salt and roasted carom seeds. Add paste of garlic and ginger. and thoroughly mix all the ingredients into a smooth batter with a uniform golden coloured texture. You can also use a blender or a food processor to mix the stuff.

Prepartion - Marination

Once your batter is ready, cut the cottage cheese into cubes of around 1 inch, cut the capsicums too into cubes of ~1 inch, and the onions too are to be cut into 4 pieces and the layers are to be separated. If you are adding tomaties, do cut the tomatoes too, 8 pieces for each tomato, and remove the seeds. Once all this is ready, add all these things into the bowl with the batter and add the ghee and mix all the things well. Once done, put all this in the refrigerator for 2-3 hours for marination. It is important that the cottage cheese takes in the flavours of spices and salt for a while. It will taste good once roasted.

Paneer Tikka
The bowl with all the things, marinated, ready to be rosted over.

Paneer Tikka
Getting it all ready to be roasted

Once you have marinated all the things for 2-3 hours, take the bowl out of the refrigerator and carefully arrange the pieces of paneer, capsicums, onions and tomatoes piercing through the center with the skewers. The picture above can help you with this arrangement. Though metal skewers are preferred, if you can't find them, you can sacrifice a few clothes hangers to easily make a few skewers out of each hanger, or make your own skewers with some wooden sticks, but you have to make sure that there are no fine shavings in the wood or these might get mixed with your food. If you fon't have the big tandoor, you can cook over electric tandoor or LPG tandoor or even over the open flame of your regular gas stove. But no Induction cooktops or Air Fryers, please. Paneer Tikkas are yet to evolve enough to be cooked over these modern cooking appliances. Hair dryers can do the job, I guess. I used a wood fired earthen stove for the purpose. Had got some steel mesh lying around in my home, so used it to help in roasting the stuff over the fire. If you are using an earthen stove (Angithi) or even a tandoor, you can use it with coal as well. The roasting is to be done once the flames are out. The burning red coal pr wood will provide enough heat to properly roast the paneer cubes and other vegetables. One you are cooking. make sure that you have proper arrangement to save your hands as since you are working with open fire, the temperatures can rise quite a lot, and you are supposed to turn around the swewers again and again so that the things can be cooked properly.

Paneer Tikka
Roasting over the earthen stove. I am using the steel mesh to help me do it easily.
Paneer Tikka
Roasting over the earthen stove. I am using the steel mesh to help me do it easily.
Paneer Tikka
Roasting over the earthen stove. I am using the steel mesh to help me do it easily.

Once it gets cooked, you will get a good enough idea looking at the colour of the paneer and other veggies. Even it it's not cooked that well, I guess nothing is harmful even if you eat it half cooked. The only concern is that you might not like the taste of uncooked spices, turmeric, garam masala and coriander powder. Cook over properly. by rolling the skewers over and over. Each skewer might take around 7-8 minutes to cook, depending on the amount of fire. Once cooked, you can remove the skewer from the fire and remove the cubes from the skewer into a plate to be served hot with the finely cut onions topped with the curd and mint chutney and chat masala sprinkled over it all.

Paneer Tikka
It's eating time. No talking while eating.

Wednesday, June 24, 2015

असुविधा के लिए खोदा है

कार्य प्रगति पर है...

तो साहब, बात कुछ ऐसी हुई की एक दिन सरकार का मन हुआ की कहीं बाहर घूम आएं। बहुत दिनों से कहीं बाहर नहीं गए थे। सुबह सुबह नहा- धो कर तैयार हुए, और रमेश बाबू, जो उनके सरकारी ड्राइवर थे, को फ़ोन घुमा दिया और तुरंत आने का आदेश ज़ारी कर दिया| सुबह- सुबह सरकार का फ़ोन आने से रमेश बाबू भी परेशान हो उठे, सोचने लगे की ऐसी क्या विपदा आ गयी है की सरकार, जो की सुबह नौ बजे से पहले उठते ही नहीं आज सात बजे ही फ़ोन कर के तुरंत आने का आदेश जारी कर रहे हैं। कहीं कोई बड़े बाबू या मंत्री साहब तो नहीं आ रहे हैं? इसी सोच में रमेश बाबू अपने सुबह- सुबह के नित्य कर्म निपटाने में मग्न हो गए। आखिर उनको जल्दी पहुचना था, पता नहीं क्या हुआ था।

आप सोच रहे होंगे की यह सरकार कौन हैं, जिनकी कहानी ले कर हम आपके सामने उपस्थित हुए हैं। तो साहब जान लीजिये, उत्तर प्रदेश में शहर एक है। सरकार इस शहर के कर्ताधर्ता हैं। सरकार की मर्ज़ी के बगैर कोई कहीं नहीं जा सकता। अजी, सरकार की तो बात ही निराली है। ऐसा नहीं है की सरकार का इतना रुतबा और इज्ज़त है की लोग सरकार से पूछे बगैर कहीं नहीं जाते, और ऐसा भी न मानें की सरकार की कोई इज्जत ही नहीं है, असल में बात यह है की सरकार - सरकार के एक अति सरकारी विभाग में उच्च पद पर तैनात हैं। पी. डब्लू. डी. का नाम तो सुना ही होगा आपने। अजी, आम भाषा में इसे (लो०नि०वि०) भी कहते हैं, लोक निर्माण विभाग, नहीं याद आ रहा? अपने दिमाग पर थोड़ा और ज़ोर डालिये, कहीं किसी कोने में आपको ऐसे किसी विभाग का ज़िक्र मिल ही जायेगा। अब क्या करें साहब, इनके काम ही कुछ ऐसे होते हैं। सड़क यह बनाते हैं और श्रेय सरकार ले जाती है, पुल यह बनाते हैं और श्रेय मंत्री ले जाते हैं, सड़क में गढ्ढ़े आप बनाते हैं और उसका ठीकरा भी इनके सर पर फूटता है। कोशिश कीजिये, यहीं कहीं आपके दिमाग के किसी कोने में पड़ा होगा वह वाक्या जब आपका पाला सड़क के किसी गढ्ढ़े से पड़ा होगा। जी हाँ, सही याद आया आपको, लापतागंज वाले लल्लन जी जहां काम करते थे, वही पी. डब्लू. डी.। अब विभाग सरकारी है तो काम भी सरकारी तरीके से ही होंगे। सरकारी विभाग, सरकारी काम, सरकारी तरीका और सरकारी बाबू भी। बिना हमारे सरकार की मर्ज़ी के एक फाइल इधर से उधर नहीं होती इस विभाग में।

इस विभाग में, अन्य सरकारी विभागों की भाँती, दिन की शुरुआत होती है दस बजे से, जब यहां कार्यरत सब बाबू लोग आना प्रारम्भ करते हैं। क्या? आपको लगा की दस बजे से सरकारी दफ्तर कार्यरत हो जाते हैं? अरे साहब, आखिर सरकारी कर्मचारी भी इंसान होते हैं। इनके भी आमतौर पर परिवार होते हैं, एक बीवी, दो बच्चे, माँ-बाप, उनका भी तो ख़याल रखना होता है। चलिए, अब बाबू लोग आना शुरू हो गए हैं, साढ़े दस बजे तक कुर्सियां भर जाती हैं। सब बड़े बाबू का इंतज़ार कर रहे हैं, जी हाँ, हमारे सरकार का। अब सबसे बड़े बाबू हैं इस विभाग में तो किसी से पहले आ जाएँ तो सरकार का रुतबा काम न हो जायेगा? इसीलिए, हमारे सरकार पौने ग्यारह बजे के बाद ही दफ्तर में प्रवेश करते हैं। अब जब सब आ गए हैं तो दिनचर्या का प्रारम्भ किया जाये, सरकार के आते ही बाहर से चाय की दुकान वाले छोटू को बुलवा भेजा जाता है, वह जा कर पहले सरकार को गिलास भर गर्मा-गर्म चाय देता है, इतने में सरकार की मेज़ पर समोसे भी पहुंच जाते हैं। इसके बाद छोटू पूरे दफ्तर में चाय देता है, और चाय के पीछे समोसे भी परोसे जाते हैं। चाय- समोसे का नाश्ता करते करते पता ही नहीं चलता की बारह कब बज गए। अब बारह बज ही गए हैं तो थोड़ा काम भी हो जाये, तो सरकार बड़े बाबू को बुलवा भेजते हैं, अजी, जो बड़े बाबू उनसे छोटे वाले बड़े बाबू हैं उनको। आखिर पंद्रह- बीस बाबुओं को संभालने के लिए एक से अधिक बड़े बाबुओं की ज़रुरत तो पड़ेगी ही, और, इन बड़े बाबुओं को सभालने के लिए लिए इनसे बड़े बाबुओं की ज़रुरत है। बुलावा मिलते ही बड़े बाबू आनन-फानन में कुछ फइलें इकठ्ठी कर के चल देते हैं सरकार के कमरे की तरफ। आधे घंटे बाद वापस आते हैं, और अपने पड़ोस में बैठे बाबू से दुखी लहजे में कहते हैं की साहब भी न क्या-क्या काम देते रहते हैं। अब फरमान जारी हुआ है की चूंकि चुनाव पास हैं, तो सड़कों के गढ्ढ़ों का कुछ करना पड़ेगा, मंत्री जी का फरमान है। अब इतनी गर्मी में इस भरी दुपहरी में कौन सड़कों के गढ्ढे गिनता फिरेगा। पर आज्ञा है तो काम करना ही पड़ेगा।

खैर, हम वापस आते हैं सरकार के पास। रमेश बाबू फटाफट तैयार हो कर सरकार के घर पहुंचे, तो सरकार को घर के बाहर, बागीचे में खड़ा पाया, सूट-बूट में आज सरकार एकदम क़यामत लग रहे थे। ऐसा प्रतीत होता था मानो सरकार या तो किसी विदेशी मेहमान से मिलने जा रहे हैं, या फिर दूसरी शादी करने के लिए लड़की देखने। अरे, लेकिन हिन्दू धर्म में और भारतीय कानून के मुताबिक तो दूसरा विवाह प्रतिबंधित है। तो क्या हुआ, सरकार आखिर सरकार हैं, जो जी में आएगा वह करेंगे। कौन रोक सकता है उनको, रमेश बाबू ने मन ही मन सोचा। फिर सरकार को आते देख गाड़ी से उतरकर गाड़ी का पिछला दरवाज़ा खोल दिया। सरकार पहुंचे, लेकिन सामान्यतयः पीछे बैठने वाले सरकार ने आज आगे रमेश बाबू के बगल में बैठने की ठान ली थी। रमेश बाबू अचंभित रह गए, लेकिन क्या करते, सरकार का जो जी में आएगा वह करेंगे। सो, रमेश बाबू आ कर अपनी, यानि की ड्राइवर सीट पर बैठ गए। सरकार ने रमेश बाबू को चलने का इशारा किया। चूंकि रमेश बाबू को कोई निर्देश नहीं मिले थे, उन्होंने ने पूछना ठीक समझा। साहब कहाँ ले चलूँ? दफ्तर? सरकार ने शांत मुद्रा में कहा, नहीं, आज हम शहर में हो रहे अपने विभाग के कार्यों की समीक्षा करेंगे। हमें उस जगह ले चलो जहां तुमने आखिरी बार हमारे विभाग का कार्य होते देखा था। रमेश बाबू ने अपने मस्तिष्क में ढूँढा और चल पड़े, उस सड़क पर जहां पुल बन रहा था। कुछ देर चलने के बाद, उनको याद आया की आगे सड़क खराब है, तो उन्होंने गाड़ी पीछे घुमाने में भलाई समझी, सोचा की घुमा कर दूसरी तरफ से ले चलेंगे सरकार को। यह देख कर सरकार ने सवाल कर दिया, बीच सड़क में गाड़ी क्यों घुमा रहे हो, रमेश बाबू ने कारण बताया तो सरकार ने कहा, कोई बात नहीं, चलो, देखते हैं। और रमेश बाबू ले चले गाड़ी सीधे पुल निर्माण में स्थान पर। कुछ दूर बाद वह इलाका आ गया, जहां सड़क पर गढ्ढ़े थे जिनसे रमेश बाबू सरकार को बचाना चाहते थे। लेकिन सरकार की आज्ञा कौन ठुकरा सकता था, ले चले गाड़ी गढ्ढों वाली सड़क में, या यह कहें सड़क वाले गढ्ढों में। बड़ी मुश्किल से धीरे-धीर सड़क पार हुई। और पार पहुँचते- पहुँचते रमेश बाबू ने जब सरकार की तरफ देखा तो दंग रह गए, सरकार के चेहरे पर मानो बारह बजे हुए थे। ऐसा प्रतीत होता था जैसे किसी ने सरकार को नंगे पाँव काँटों पर चलवा दिया हो। लेकिन क्या करें, चूंकि यह काम भी उनके ही विभाग का था, सरकार कड़वा घूँट पी गए और कुछ नहीं बोले। रमेश बाबू गाड़ी चलते रहे, और कुछ देर बाद पुल निर्माण के स्थल पर पहुंच कर गाड़ी रोक दी।

गाड़ी रोक कर रमेश जी सरकार के तरफ वाले दरवाज़े की तरफ लपके, और झट से पहुंच कर दरवाज़ा खोल दिया, और सरकार गाड़ी से उतर गए। निर्माधीन पुल की तरफ सरकार ने नज़र दौड़ाई तो लगा जैसे यह पुल बरसो से बन रहा हो, जगह जगह हरी- हरी काई जमी हुई थी, मानो कोई बरसो से आया न हो वहाँ। सरकार ने रमेश बाबू से पूछ ही लिया, की यह पुल कब से बन रहा है, और रमेश बाबू ने संकोचित लहजे में जवाब दिया, - साहब, यह पुल तो इस शहर में आपके द्वारा शुरू किया गया पहला कार्य था। करीब पांच साल हो गए हैं। सरकार से कुछ न कहा गया। कहते भी क्या? कुछ किया ही नहीं था उन्होंने। ऊपर से यह ड्राइवर उनके खुले ज़ख्मों पर नमक रगड़ रहा था। थोड़ी भारी आवाज़ में साहब ने कहा चलो यहां से। वापस आ कर गाड़ी में बैठे, और निकल पड़े। आगे कुछ दूर एक इलाके में सड़क पर काफ़ी वाहन इकठ्ठे हो रखे थे, सब हॉर्न बजा- बजा कर मानो लोगों का मनोरंजन कर रहे हों। कुछ देर हॉर्न की आवाज़ें सुनने के बाद लगा जैसे कोई मधुर संगीत बज रहा हो कानों में। अलग- अलग प्रकार के हॉर्न, और अब पीछे भी तीन- चार गाड़ियां आ कर हॉर्न बजने लग गयी थीं। कोलाहल देख कर साहब ने रमेश बाबू को उतर कर देखने को कहा, और फिर खुद भी उतर कर आगे बढे। उन्होंने क्या देखा की आगे सड़क का एक हिस्सा खुद पड़ा है और बहुत सारी मिटटी बाहर सड़क पर पड़ी है, और बगल में एक बोर्ड लगा हुआ है, जिसपर लिखा है, कार्य प्रगति पर है, असुविधा के लिए खेद है। सरकार को सारा माज़रा समझ आया, लेकिन फिर भी कुछ नहीं कर सकते थे, आखिर काम उनके विभाग का ही था। जैसे- तैसे वहाँ से बाहर निकले और रमेश बाबू को बोले की दफ्तर ले चलो। और रमेश बाबू समझ गए की अचानक से यह क्या हुआ। लेकिन बोले कुछ नहीं, सबसे अच्छे रास्ते से दफ्तर की तरफ चल पड़े।

घूमते- घूमते काफी देर हो चुकी थी। करीब पिछले चार घंटे से रमेश बाबू सरकार के कहने पर गाड़ी शहर में घुमा- घुमा कर अब दफ्तर की तरफ चल दिए थे। अचानक सरकार का सवाल आया, और कितनी दूर है दफ्तर? रमेश बाबू ने कहा - साहब अभी एक घंटा लगेगा और यह सुनते ही सरकार के माथे पर चिंता की लकीरें साफ़ दिखने लगी। काफी देर से सरकार नज़र दौड़ा- दौड़ा कर शौचालय ढूंढ रहे थे। आखिर प्रकृति की पुकार को कौन रोक सकता है? उसको जब आना होगा वह आएगी ही। आप सरकार हों या जमादार। आखिरकार एक जगह उनको दिख ही गया, और शौचालय देख कर ऐसी राहत मिली, मानो दो दिनों के प्यासे को ठन्डे पानी का सोता मिल गया हो तपते रेगिस्तान में। सरकार उतरे और दौड़े शौचालय की तरफ। पीछे से रमेश बाबू सरकार को दौड़ते हुए देख कर हँसने लगे, लेकिन इस बात का ख़याल रखा की सरकार को उनकी हँसी की आवाज़ सुनाई न दे। अब सरकार शौचालय के पास पहुंच कर अचानक रुक से गए। उनको देखते हुए रमेश बाबू अचंभित हुए। फिर सरकार ने अपने पॉकेट से रुमाल निकला, नाक पर रखा और फिर बहादुरी से आगे बढे मैदान-ए-ज़ंग में। वहाँ का नज़ारा सरकार को कुछ अच्छा नहीं लगा। जब सरकार को अच्छा नहीं लगा तो आपको भी नहीं लगेगा, इसीलिए हम बताएँगे नहीं, लेकिन, अगर आप जानने के लिए अत्यधिक उत्सुक हो रहे हों तो अपने आस- पास के किसी सरकारी शौचालय का रुख कीजियेगा, जी नहीं सुलभ शौचालय नहीं, दूसरे सरकारी वाले, जो आपका नगर निगम बनता है (अगर बनता है तो)। आपका जीवन सफल हो जायेगा, आपको मोक्ष की प्राप्ति हो जाएगी, अगर जीवित बच आये वहाँ से तो। खैर, हमारे सरकार निकले शौचालय से, वही नाक पर रुमाल पकडे, एक हाथ से। चेहरे पर सुकून का भाव साफ़ दिख रहा था। आगे बढे तो रमेश जी ने गाड़ी चालू कर दी। कुछ देर बाद रमेश जी को कुछ आवाज़ सुनाई दी, सरकार उन्हें पुकार रहे थे। रमेश जी ने उस तरफ देखा तो नज़ारा अचंभित कर देने वाला था, सरकार का कद अचानक से आधा रह गया था मानो किसी ने उनके पैर काट लिए हों। रमेश जी गाड़ी से उतरे और दौड़े सरकार की तरफ, तो क्या देखा, की सरकार बड़ी सी नाली में गिर पड़े हैं। रमेश जी ने कोलाहल में पूछ डाला की साहब इसमें कैसे गिर गए। सरकार ने अपनी आपबीती सुनाते हुए कहा की वह आ रहे थें, और उनके पैर रखते ही अचानक से इस नाली पर पड़ा हुआ पत्थर टूट गया और वह नाली में गिर पड़े। रमेश जी ने खैर खबर ली की कहीं चोट तो नहीं आई और सरकार ने कहा नहीं। फिर रमेश जी की मदद से सरकार उस नाली से बाहर निकले। उनके आधे पैर काले कीचड़ में सने हुए थे। और बदबू आ रही थी सो अलग। उन्होंने रमेश जी से पानी माँगा, लेकिन इस सुनसान इलाके में रमेश जी पानी कहाँ से लाते। सो उन्होंने कहा की साहब, आप इंतज़ार कीजिये, मैं पानी ले कर आता हूँ। और निकल पड़े पानी की तलाश में सरकार को वहीँ छोड़ कर। करीब आधे घंटे बाद जब रमेश जी पानी ले कर वापस आये तो सरकार वहाँ नहीं थे। इधर- उधर देखा तो ज़मीन पर काले- काले जूतों के निशान पीछे की तरफ जाते हुए दिखे, थोड़ी दूर जाने पर सरकार वहाँ से लौटते दिखे। पैर कुछ साफ़ से दिख रहे थे। रमेश जी दौड़ कर सरकार के पास पहुंचे और पैरों पर पानी डालते हुए कहा - साहब आपने कहाँ धो लिए पैर, मुझे तो आगे बहुत दूर तक जाना पड़ा तब जा कर एक घर दिखा जहां से पानी ले कर आया हूँ। पहले पता होता तो वहीँ चल लेते, आपको इतना चलना और इंतज़ार नहीं करना पड़ता। सरकार कुछ चुप से थे, मानो वह इस बात को और नहीं खींचना चाहते। पर रमेश जी के पूछने पर सरकार को बताना पड़ा की पीछे सड़क के एक गढ्ढ़े में बारिश की वजह से पानी भर गया था, वहीँ से धो कर आये हैं पैर।

दोनों वापस गाड़ी तक पहुंचे और रमेश जी ने थोड़ी देर बाद सरकार को दफ्तर पंहुचा दिया। सरकार दफ्तर पहुंचे, और रमेश जी को घर जा कर दूसरे कपड़े और जूते लाने का हुक्म दिया। और अपने कमरे में पहुंच गए। थोड़ी देर बाद कपड़े और जूते ले कर रमेश जी भी आ गए, और सरकार ने वस्त्र बदल लिए। रमेश जी के जाते ही चाय और समोसे आये, लेकिन सरकार ने कुछ और मन बना लिया था, उन्होंने बड़े बाबू को बुलवा भेजा और रोज़ की ही तरह बड़े बाबू आज भी फइलें ले कर सरकार के कमरे में गए। थोड़ी देर बाद वापस आये तो फिर अपने पड़ोस वाले बाबू से थोड़े अप्रसन्न लिहाज़ में बोलने लगे, यह साहब भी पता नहीं क्या- क्या हुक्म देते हैं। अब बोल रहे हैं की शहर में जितने कार्य हमारे विभाग की तरफ से हो रहे हैं उनका पूरा ब्यौरा तैयार कर के दो। अब इस काम पर कौन अपना माथा फोड़े। जाने दो आज आदेश किया है उन्होंने, कल भूल जायेंगे, मैं बैठता हूँ। पूछेंगे तो बोल दूंगा की साहब इसमें वक्त लगेगा, हम बहुत सारे काम करते हैं सबका ब्यौरा तैयार में वक्त तो लगेगा ही।

सरकार का दिन खत्म हुआ, और वह घर गए, अगले दिन सारी चीज़ें अपने ढर्रे पर। बाबू लोग दस बजे आने शुरू हुए, बड़े बाबू साढ़े दस बजे पहुंचे और सरकार अपने समय यानी पौने ग्यारह बजे, फिर सबने चाय पी, समोसे खाए और लग गए अपने काम करने में।

असुविधा के लिए खेद खोदा है ।

एक ज़रूरी (सरकारी) सूचना : इस कहानी के सभी पात्र, संस्थाएं एवम घटनाएँ काल्पनिक हैं और इनका असल ज़िन्दगी में किसी भी व्यक्ति, संस्था या घटना से कोई संबंध नहीं  है। अगर भविष्य में इस कहानी से सम्बंधित कोई व्यक्ति अथवा घटना घटित होती है तो कृपया मुझसे संपर्क करें, मैं भविष्यवक्ता बन सकता हूँ। और ऐसा कोई व्यक्ति अथवा घटना अगर अतीत में हुई है तो कृपया मुझे माफ़ करें, मैं इतिहास में बहुत कमज़ोर था, बचपन से ही।
आई शप्पथ। 

Sunday, June 14, 2015

The hand painted wall decal

Long ago, I promised sharing the end product of my toothbrush painting adventure. And then, I just went missing. I know, it's been almost a month since I last posted here. I was regular in posting here then whoosh, I was gone one day. Well, I am to blame for this. There's nothing in particular that was holding me back, but, I somehow skipped writing in here. Maybe, I was concentrating on something else, my other blog, and one more thing that I will be sharing with you all, soon.

These days,among home decor section in most of the online shopping sites, there is something that has been gettng a lotof attention, and rightly for what these things help you do with otherwise bland walls, if you are someone like me who is not rich enough to splurge money in lakhs on getting your walls painted in decorative colours, designs and patterns. So I set myself up to do sometging I had learnt in school, something which I shared with you all a couple of months back, and also promised that I will share with you guys, the final things, and then I just missed doing that. So, for now, I shall fulfill my promise I made long back. Yes, I'm sharing with you guys, the shots of the two finished (okay, one is still unfinished, and I still don't think that I will ever finish it :P).

Go ahead, click on those pictures. I have uploaded all the shots in relatively large resolutions, so as to allow you take a close look. And should I remind you, these things are painted with a toothbrush, and span over an area of around 7 feet by 3 feet, and were painted with the help of paper stencil, I had cut out after printing the outlines of some SVG (scalable vector graphics) abstract art available freely on the internet, and enlarging them enough to be printed over that big an area (7x3 feet).

Anyways, here are the pieces.

Do I need to say anything else? I guess, there's no need for that. So, these are two designs I completed on two walls in my home. There are plans for more of them, but, I don't think that I will work on them any further, since working on these things take a lot of time, which is something I do not have a lot to spare. As I told you I am working, on something, which takes up a lot of my free time, and then, I have been a culprit of starting a number of blogs, a third one, that was in works for a long time now has now gained momentum, so, that too takes up some of my time. Shall I give you an idea of the secret thing I am working on?

Well, that is in works for very long time, it's been in concept for around 5 years now. I have been working on gathering knowledge about how to go about it. OK, it is a solar power generation system I have conceptualised for too long now. The idea is to install a solar power generation system on the rooftop of my house, which will be sufficient enough to power all the appliances in my house, barring a few power hungry appliances. The plan is exorbitantly expensive, something I cannot afford in one go, and hence this idea cropped up. I will be building a scalable system, that is compact enough to be installed on a rooftop in a small area, and efficient enough to extract the maximum power from the sun, using some added mechanisms, and this is the thing that is taking up time. Anyways, I don't think it'll be wise to merge that blogpost in this one. So come back next week, read about it. I think, I should make it a sub section, that I will be updating frequently as the project proceeds.

Do let me know if you liked the designs, or the artwork or both. And should need any help trying to create one for ur own house, do getin tough, I will be happy to help you out. See ya!